पेट्रोल, डीजल को फिलहाल GST के दायरे में लाने की योजना नहीं, राज्य-केंद्र पक्ष में नहीं

पेट्रोल और डीजल को निकट भविष्य में माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के दायरे में लाने की फिलहाल कोई योजना नहीं है.

 (जीएसटी) के दायरे में लाने की फिलहाल कोई योजना नहीं है. इसकी प्रमुख वजह राज्य और केंद्र सरकारों का इसके पक्ष में नहीं होना है क्योंकि उन्हें राजस्व नुकसान होने का डर है. एक शीर्ष सूत्र ने ये जानकारी दी.

पिछले साल जब जुलाई में जीएसटी को लागू किया गया था तब पांच पेट्रो उत्पादों को इसके दायरे से बाहर रखा गया था. ये उत्पाद पेट्रोल, डीजल, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस और विमान ईंधन (एटीएफ) हैं.

यद्यपि पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी समेत कुछ अन्य मंत्रियों और उद्योग जगत के लोगों की बीच इस बात की चर्चा रही कि इन्हें जीएसटी के दायरे में लाया जाए ताकि कीमतों में उतार-चढ़ाव से निपटा जा सके. नाम ना बताने की शर्त पर सूत्र ने बताया कि हालांकि इन्हें जीएसटी में शामिल करने की तत्काल कोई योजना नहीं है.

उन्होंने कहा कि वित्त मंत्रालय ने इस संबंध में कोई प्रस्ताव आगे नहीं बढ़ाया है. लेकिन मीडिया रिपोर्ट के आधार पर चार अगस्त को जीएसटी परिषद की पिछली बैठक में इस पर चर्चा हुई थी. सभी राज्यों ने इसका विरोध किया था.

source:https://hindi.news18.com/news/business/no-gst-on-petrol-and-diesel-in-near-future-1488082.html